बिलासपुर

बिलासपुर की बेटियां भी रही अव्वल…10 वीं, 12 वीं बोर्ड परीक्षा में टॉप टेन सूची में नाम किया दर्ज…जिला कलेक्टर ने दी शुभकामनाएं

रमेश राजपूत

बिलासपुर – छत्तीसगढ़ माध्यमिक शिक्षा मंडल ने इस सत्र 10वीं 12वीं बोर्ड परीक्षा का परिणाम एक साथ जारी किया। जिसके बाद सिविल सर्विस में अपना स्थान लाने की चाह में कड़े लगन और मेहनत से पढ़ाई करने वाली वेदांतिका शर्मा कि मेहनत रंग लाई है,रिजल्ट जारी होने के बाद जैसे ही पता चला कि बिलासपुर की छात्रा वेदांतिका शर्मा 12 वीं बोर्ड परीक्षा में 96 प्रतिशत के साथ पाचवां स्थान प्राप्त किया है उसके बाद वेदांतिका को बधाई देने का सिलसिला शुरु हो गया। आपको बता दें वेदांतिका एक मध्य वर्गीय परिवार से है जिसके पिता रमेश शर्मा एक वकील है। वेदांतिका शर्मा सेंट जोसेफ कांवेंट इंग्लिश मीडियम स्कूल में अध्ययनरत है।

जिसने स्कूल और कोचिंग सहित घर में 4 से 6 घंटे की पढ़ाई के साथ आज वेदांतिका शर्मा ने प्रदेश में अपने नाम का परचम लहरा दिया है वेदांतिका शर्मा ने अपनी सफलता का श्रेय अपने परिजन और स्कूल टीचर को दिया है। वेदांतिका दसवीं में भी है कुछ अंकों के वजह से टॉप टेन आने से चूक गई थी लेकिन वह उससे रुके नहीं उसने ठान लिया और आज आखिर इस मुकाम पर पहुंच चुकी है, वेदांतिका शर्मा सिविल सर्विस में अधिकारी बनकर जिले अपितु देश कि सेवा करना चाहती है।

शासकीय स्कूल की छात्रा प्रिया ने मारी बाजी…10 वीं में टॉप 10 में 9 वाँ स्थान किया हासिल

पेशे से ऑटो चालक पिता और गृहणि मां की बेटी ने बिलासपुर का नाम रोशन किया है। प्रिया साहू ने दसवीं बोर्ड परीक्षा में 9 वा स्थान हासिल किया है। प्रिया साहू पढ़ लिखकर इंजीनियर बनना चाहती है। प्रिया साहू बिलासपुर से 9 किलोमीटर दूर शासकीय हायर सेकंडरी स्कूल सकरी की छात्रा है। प्रिया साहू के पिता इतवारी साहू पेशे से एक ऑटो चालक है। प्रिया साहू ने दसवीं बोर्ड में कुल प्राप्तांक 600 में 584 अंक हासिल कर प्रदेश की मेरिट लिस्ट में 9 वा स्थान बनाया है। प्रिया साहू ने 97.33 प्रतिशत अंक हासिल किए है। पेशे से ऑटो चलाने वाले प्रिया साहू के पिता इतवारी ने बताया कि पारिवारिक परेशानियों के कारण वो तो ज्यादा नहीं पढ़ पाए लेकिन बेटी की उपलब्धि ने उनके परिवार को प्रदेश में सम्मान दिलाया है। प्रिया साहू बचपन से ही पढ़ाई लिखाई में तेज है। उसने सभी परीक्षाओं में अच्छा अंक हासिल किया है। दिन में वह 4- 6 घंटे पढ़ती थी। प्रिया साहू की मां ने उसे हमेशा पढ़ने – लिखने के लिए उत्साहित किया है। वही उसकी काबिलियत की परख तो शासकीय हायर सेकंडरी स्कूल सकरी के शिक्षको ने कर ली थी। लिहाजा उपचारात्मक शिक्षा पद्धति से प्रिया साहू को पढ़ाया गया। अब जब रिजल्ट घोषित होने के बाद स्कूल प्रबंधन भी अपने आप को गौरवान्वित महसूस कर रहे है। इधर प्रिया ने भी अपनी इस सफलता का श्रेय स्कूल शिक्षको और अपने परिजनों को दिया है।

कलेक्टर ने की सराहना दी शुभकामनाएं…

10 वीं बोर्ड परीक्षा परिणाम में राज्य में टॉप टेन में 9 वां स्थान पाने वाली छात्रा प्रिया साहू को कलेक्टर अवनीश शरण ने शुभकामनाएं दी। प्रिया से चर्चा कर भविष्य की योजनाओं की जानकारी ली और हर संभव सहायता का आश्वासन दिया। प्रिया के पिता ऑटो चालक हैं और श्रम के असंगठित कर्मकार योजना में पंजीकृत हैं। श्रम विभाग के सहयोग से प्रिया को कलेक्टर अवनीश शरण से मिलवाया गया। कलेक्टर ने श्रमायुक्त को विभाग की योजना का परिवार को लाभ दिलाने के निर्देश दिए। जिसके तहत श्रम आयुक्त श्री प्रधान द्वारा 50000 की अनुदान राशि दिए जाने की घोषणा की गई।

error: Content is protected !!
Breaking